KT.v-1.1 Who is Biggest Enemy of You

ईर्षा जलन द्वेष ये हमारे सबसे बड़े शत्रु हैं क्यूँ क्यूंकी हमारे सबसे बड़े शत्रु वो होते हैं जो हमे सबसे अधिक नुकसान पहुचाएँ और हमारी सबसे बड़ी हानि होती है समय की हानि.
सबके पास जीवित रहने का एक समय होता है. कोई भी सदा अमर नही रहता, जलन और द्वेष के कारण हम जो समय अपने विकास और प्रगती में लगा सकते थे वो समय हम उसको सोचने मे लगा देते हैं जिससे हमे ईर्षा है जलन की अग्नि शत्रु से अधिक खुद को जलाती है.

तो अपने जीवन को धुआँ बना देना क्या उचित है? किसी की प्रगती को देख कर अपने मन मे ईर्षा और जलन लाने से उचित ये नही होगा की हमारे कारण किसी के होंठो पर मुस्कुराहट आए.

एक बार अपने मन से जलन को निकाल कर तो देखिए अपने आप को बहुत उँचा पाएँगे. और समझ मेी आएगा की इस ईर्षा के कारण हुँने क्या क्या खो दिया है.

Audio File

 

“Malice Jealous Envy” these are our biggest enemy because our biggest enemy damages us most. Damage and loss of time is our greatest loss.

Everyone has a time of survival, No one lives forever, not immortal. Because of Malice, Jealous, and Envy time we could have invest in our stride, waste in jealousy with one. Fire of Jealousy harms us more than other.  

So Make your life smoke is right? Rather than feeling Jealous by seeing the progress of others we should try to bring smile on someone face. Try to throw out all Malice & Jealous from your life then you will be able to see what you have lost in your life

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑

%d bloggers like this: